Google+ Followers

शनिवार, 7 फ़रवरी 2015

किसी दिन युँ मिलो..




किसी दिन युँ मिलो..
के फिर हम ना दूर हो..
कॊई कर सके ना जुदा..
के हम ना मजबूर हो.

किसी दिन....यूँ मिलो..
के रूह एक हो चले...
एक लौ में जलें..
जैसे दो दिए...

हाँ दिल में वो सुरूर हो..

कोई कर सके ना जुदा....
हम ना मजबूर हो.



कभी मुझे....

खुद मे युँ उतार लो ....
जैसे लहर लहर मे चूर हो...
कभी मुझमें...युँ बस जाओ..
जैसे जिस्म से ना रूह दुर हो..
कोई कर सके ना जुदा..
के हम ना मजबूर हो

-'जान'

सितम्बर २०११
''पुरानी डायरी के झरोखे से''

योगदानकर्ता