Google+ Followers

मंगलवार, 31 मार्च 2015

जो न सोचा था कभी...



जो न सोचा था कभी,वो भी किया किये
हम सनम तेरे लिये,मर-मर जिया किये


***


तेरी आँखों से पी के आई जवानियाँ
दम निकलता ही  रहा, पर हम पिया किये


***

आँख हरपल राह तकती ही रही सनम..
फर्श पलकों को किये,दिल को दिया किये


***

आदतन हम कुछ किसी से मांग ना सके
और हिस्से जो लगा वो भी दिया किये


***

जख्म को अपने कभी मर हम न मिल सका
गैर के जख्मों को हम तो बस सिया किये







********************************
          (c) ‘जान’ गोरखपुरी
********************************
    ''पुरानी डायरी के झरोखे से''
              १७ मार्च २००६

योगदानकर्ता