Google+ Followers

मंगलवार, 13 जनवरी 2015

''मोहब्बत की दुनिया''


मोहब्बत की दुनिया यूँ आबाद करना
जब जब भी दिल धड़के हमें याद करना..!



तुम्हारी जुल्फ. तुम्हारे लब. तुम्हारी निगाहें
मस्त जादू भरी तुम्हारी अदायें
इस कैद से ना ...
                                       इस कैद से ना............हमें आज़ाद करना..!
                                    जब जब भी दिल धड़के हमें याद करना..!!




देख के हुस्न तुम्हरा..फूलों को आये पसीने
अब ये दूरियाँ..हमको न देगी जीने...
मिलने का वख्त तुम....
                            मिलने का वख्त तुम.....जल्द इज़ाद करना..!
                        जब जब भी दिल धड़के हमें याद करना..!!



हम तो हो चुके है तुम्हारें
                         दिल नही लगता कही तुम्हारे बिना रे 
मंजूर हमको...
                                          मंजूर हमको....आबाद करना या बरबाद करना..!!
                                जब जब भी दिल धड़के हमें याद करना..!!

                                                                           -'जान' गोरखपुरी

योगदानकर्ता