Google+ Followers

शनिवार, 31 जनवरी 2015

''सपना सजाया है''

एक सपना सजाया है
तुमको न खोया है न पाया है

तुम प्यार की रस्म
अदा करो या न करो,
हमने तो जन्मो-जन्म
यही रस्म निभाया है


इक मंदिर है,
कोई शीशमहल नहीं,
मूरत को तेरी
जहाँ बिठाया है

तुम इम्तिहान
मेरी वफ़ा का क्या लोगे
बुझेगा न ये दिया
जिसको खुदा ने जलाया है
               
               -जान
 पुरानी डायरी के झरोखे से

योगदानकर्ता