Google+ Followers

गुरुवार, 9 अप्रैल 2015

सफ़र-ए-वफ़ा में..



सफ़र-ए-वफ़ा में हुयी,तो वही बात हुयी
हुयी तो उसी बेवफा से मुलाकात हुयी

मै हूँ इश्क में या,कि दिल है कफ़स में तेरी
कि है मुझको मालिक मिरे कैद-ए-जुल्मात हुयी                                                                           
कोईतो नही जुल्फ-ए-स्याह में जो सुलाय
है फिर आज बुझती हुयी सी दगा रात हुयी

न थी जिसको इल्मे-वफा-ओ-करम  यारब
उसी संग़दिल से थी क्यू ‘’जान वफ़ आत हुयी

*****************************
        (C) 'जान' गोरखपुरी
*****************************

योगदानकर्ता