Google+ Followers

बुधवार, 25 फ़रवरी 2015

ख़ुदी....





अब हुयी है सहर-ए-ज़िंदगी
हमने करनी छोड़ दी बशर की बंदगी..

न सर झुका के मांग हकी..
नजर से नजर मिला,रख यकीं...


कदम थक गए तो दम रख गम नही..
नजरें न थके, हौसला न थके कभी..


अपना मालिक खुद बन,खुद पे रख यकीं
उसी का है ख़ुदा,जिसकी है ख़ुदी...

हुआ बहुत तलाशे सनम,हुयी बहुत बेख़ुदी
सनम अपना अहले-हिंदोस्ता,अहले-जहाँ,तोड़ दे सारी हदी...




                                                    -''जान'' गोरखपुरी
                                                       

                                                   

योगदानकर्ता