Google+ Followers

बुधवार, 1 जुलाई 2015

अब जो जायेंगे...





अब जो जायेंगे उस गली तो सबा छेड़ेगी                                        (सबा = प्रभात समीर)
वारे उल्फ़त! मुझको मेरी ही वफ़ा छेड़ेगी
 ..

जिसको आँखों में भरके फिरते थे हम इतराते
हाय जालिम तेरी कसम वो अदा छेड़ेगी
..

जो गुजरते हर एक दर पे थी हमने मांगी
राह में मिलके मुझसे वो हर दुआ छेड़ेगी
..

वो जो बातें ख्यालों की ही रह गई बस होकर
बेसबब बेवख्त आ मुद्दा बारहा छेड़ेगी                                                (बारहा = बार-बार)
..

सुनते ही जिसको तुम चले आते थे दौड़े
हाँ फजाओ में गूंजती वो सदा छेड़ेगी
..

चूम के हाथ अपने  हवाओं के बोसे देना
अब तो सांसों की आती जाती हवा छेड़ेगी
..

था नजर आया जिनमे वो ’जान’ सौ रंगों में
अरगनी से लिपटी पड़ी वो कबा छेड़ेगी                                                 (कबा = कपड़े)



*********************************
मौलिक व् अप्रकाशित (c)"जान" गोरखपुरी
*********************************

योगदानकर्ता